Tuesday, 19 March 2019

खुशहाली के लिये रंग का महत्व जानिए

दोस्तों रंग का महत्व हमारे जीवन में बहुत मायने रखता है। होली के त्योहार पर पूरा देश इन रंगो में रँग जाता है। होली का त्योहार नजदीक आ रहा है। दोस्तों क्या आपने कभी सोचा है कि रंग का महत्व जानना हमारे लिए क्यों जरूरी है ? हर रंग किसी न किसी चीज का प्रतीक होता है। इन्ही प्रतीकों के आधार पर कुछ देशो ने अपने झंडे बनाये हैं। हर कलर कुछ न कुछ कहता है। बस इसे समझने की जरूरत है। हालांकि आपने देखा होगा कि डॉक्टर की क्लीनिक पर हरे के पर्दे लगाए जाते हैं, ऐसा क्यों ? होली में ज्यादातर लाल, हरा, नीला और गुलाबी रंग का ही ज्यादा प्रयोग क्यों किया जाता है ? इसके पीछे इनका  अपना अलग महत्व होता है। आज इस पोस्ट में हम आपको रंग का महत्व समझाने की कोशिश करेंगे।

Rango ke mahatva

हमारे सभी पाठकों और उनके समस्त परिवारी जनो को हमारी टीम की ओर से होली की हार्दिक शुभकामनाएं। आपके लिए ये होली खुशियों की सौगात लेकर आये, ऐसी हम आपके लिए कामना करते हैं।

खुशहाली के लिए रंग का महत्व जानें

लाल

इसे प्यार और संघर्ष का प्रतीक माना जाता है। वेदों के अनुसार हिन्दू सुहागिन स्त्रियों के लिए लाल रंग का महत्व बहुत ज्यादा है। इसे सुहाग की निशानी माना गया है। सुहागिन स्त्रियों के लिए यह बहुत ही शुभ होता है। कहीं - कहीं इसे खतरे की सूचना देने के लिए भी उपयोग किया जाता है। ये खतरे का प्रतीक भी है। देवी मां की पूजा में इसे खास महत्व दिया गया है। इनके पूजन में लाल सिंदूर और लाल चुनरी का बहुत ऊंचा दर्जा है।

हरा 

इसे खुशहाली का प्रतीक माना जाता है, क्योंकि हमारे यहां सभी पेड़ - पौधे हरे होते हैं। हमारे विद्वानों ने इसे प्रकृति का रंग माना है। हमारी प्रकृति हरी है। इसे देखने से मन और आंखों को बहुत ही शांति मिलती है। डॉक्टर की क्लीनिक और अस्पतालो में मरीज को आराम देने के लिए इसी कलर को पर्दे व दीवारों पर लगाया जाता है। बीमार व्यक्ति के लिए हरे रंग का महत्व अधिक है।

Read Also :

• Tgt के बारे में जानकारी

• Profitable business कैसे चुने

पीला

इसे प्रसन्नता और सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने का सूचक माना जाता है। इसकी तुलना सूर्य के प्रकाश से भी की जाती है। ये भगवान विष्णु और बृहस्पति देव का प्रिय रंग है। पीली वस्तुएं इन्हें बहुत पसंद आती हैं।

केसरिया (नारंगी)

इसे वीरता, प्रसन्नता और उत्साह प्रदान करने वाला माना जाता है। ये आजादी का प्रतीक भी माना जाता है। ये हनुमान जी का प्रिय रंग है। हनुमान जी को केसरिया सिंदूर बहुत पसंद है।

नीला

शांति, एकता और सतर्कता के लिए नीले रंग का महत्व बताया गया है। ये इनका सूचक होता है। पानी और आकाश का कलर नीला होने के कारण ये हमारे मन को बहुत ही शांति प्रदान करता है। हमारे देश के राष्ट्रध्वज में भी इसे लगाया गया है।

गुलाबी

इसे प्रेम और सुंदरता प्रदान करने वाला माना जाता है। प्यार का इजहार करने और रोमांटिक मन के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। गुलाब को प्यार की निशानी कहा जाता है और आप सब को अच्छी तरह से पता है कि गुलाब का फूल गुलाबी रंग का होता है।

सफेद

ये सच्चाई, शांति और एकता प्रदान करने वाला होता है। इसे देखने से मन की सभी बुराइयां और कुरीतियां दूर हो जाती हैं। अंधकार को दूर भगाने में सफेद रंग का महत्व होता है। इसीलिए उसे अपने देश के झंडे ने स्थान दिया गया है।

काला

ये अशांति और अंधकार का प्रतीक होता है। युद्ध के समय लड़ाई का ऐलान करने के लिए राजा - महाराजा काले झंडे का प्रयोग करते थे। काला झंडा फहराने का मतलब होता था कि अब युध्द होगा। काले झंडे का प्रयोग किसी का विरोध करने के लिए भी किया जाता है।

Read Also :

• जल्दी करोड़पति कैसे बने 

• Agriculture Course में हैं हजारों करियर ऑप्शन   जरूर पढ़ें 

रंग का महत्व केवल होली के लिए ही नहीं है, बल्कि इनका प्रभाव तो हमारे जीवन पर हमेशा रहता है। इस पोस्ट के द्वारा अब आप इनके बारे में अच्छी तरह से जान गए होंगे कि ये हमसे क्या कहते हैं और ये हमसे क्या चाहते हैं ? एक बार सोच कर देखिये कि अगर ये रंग न होते हो हमारा जीवन कैसा होता ? बिल्कुल बेजान और ब्लैक एंड व्हाइट फिल्मों की तरह होता। जीवन का कोई खास मकसद भी नहीं होता। जब हमें प्रकृति ने ये कलर दिए हैं तो इनका सही तरह से प्रयोग करना चाहिए। हमें रंगों के प्रभाव के अनुसार काम करने चाहिए। होली के मौसम में आप सभी इनका लुफ्त उठाइये, क्योंकि रंग का महत्व हमेशा हमारे ऊपर कारगर रहेगा।

आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी। हमें उम्मीद है कि आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी। यदि करियर से सम्बंधित कोई समस्या या problem हो तो आप हमें comment के द्वारा पूछ सकते हैं। यदि आप हमें करियर से संबंधित कोई जानकारी देना चाहते हैं या कोई गेस्ट पोस्ट भेजना चाहते हैं तो आप हमें  safaladda@gmail. com  पर भेज सकते हैं।

Popular Post :

  News Anchor बनने की पूरी जानकारी हिन्दी में 

  Chemical Engineer कैसे बना जाये

  Civil Engineering में बनाये सुनहरा भविष्य 

  Makeup Artist कैसे बनें

  Childcare app से करें बच्चे की देखभाल

  Books publishing की secret जानकारी

  Exam apps जो दिलाये सरकारी नौकरी में सफलता

  Computer Science में करियर की अपार संभावनाएं      जरूर पढ़ें 

  नौकरी का Test qualify न होने पर क्या करें

  Magician कैसे बने जरूर पढ़ें 

  CTET पास करने की पूरी जानकारी हिंदी में

  Event Managenent में करियर बनाने की जानकारी

Thursday, 14 March 2019

Tgt के बारे में जानकारी

दोस्तों Tgt के बारे में सभी जानते हैं। शायद ही कोई स्टूडेंट हो जो कि इसके बारे मे न जानता हो। टीचर बनने के लिए tgt और pgt दोनों का अलग - अलग महत्व है। हर छात्र के मन मे टीजीटी क्या है ? इसकी सही और पूरी जानकारी जानने की उत्सुकता रहती है। दोस्तो इसके बारे में जानते तो सभी हैं, लेकिन इसकी पूरी और सही जानकारी शायद ही किसी के पास हो। आज इस पोस्ट के द्वारा आप टीजीटी की छोटी से छोटी इन्फॉर्मेशन जान पाएंगे। ये बात तो बताने की जरूरत ही नही है कि इसे क्लियर करने के बाद इंसान टीचर बनता है। ये Tgt क्वालीफाई कैसे किया जाता है ? इसके बारे जानकारी विस्तार से जानते हैं।

Tgt के बारे में जानकारी

Tgt exam

Tgt की full form

दोस्तों इसकी कम्प्लीट जानकारी देने से पहले  हम आपको इसका पूरा नाम बताते हैं। इसकी फुल फॉर्म Trained Graduate Teacher है। इसे हिंदी में प्रशिक्षित स्नातक शिक्षक कहा जाता है। इसे पास करने के बाद सरकारी अध्यापक बना जा सकता है।

Tgt eligibility

ये एग्जाम वही व्यक्ति दे सकता है जिसने ग्रेजुएशन के साथ बी एड उत्तीर्ण किया हो। इसे पास करने के बाद टीचर बनते हैं। ये बात तो सभी लोग जानते हैं कि सरकारी शिक्षक बनने के लिए  B.ed के बाद ही रास्ता खुलता है। इसीलिए ये एग्जाम B.ed के बाद होता है। टीजीटी व पीजीटी की वेकैंसी सरकार समय - समय पर एक साथ निकालती है। ये वैकेंसी राज्य सरकार अपने राज्य के सरकारी हाई स्कूलों के लिए निकालती है। इसके अलावा केंद्रीय विद्यालयों में अध्यापकों की कमी को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार भर्ती निकालती रहती है।

Tgt course

टीजीटी का कोई कोर्स नही होता है, बल्कि इसका  बी एड के बाद टेस्ट होता है। इसके लिए अगर आप इच्छुक हैं तो आप अप्लाई कर सकते है। यदि आप आप इच्छुक नही हैं तो भी कोई बात नही है। इसका test अलग - अलग विषय के अनुसार अलग - अलग होता है। आपने जिन subject से स्नातक उत्तीर्ण किया और जिस विषय से B.ed किया है। इस टेस्ट के लिए उसी सब्जेक्ट से अप्लाई करते है और इसी से क्वालीफाई करना पड़ता है।

Read Also :

• Profitable business कैसे चुनें

• Childcare app से करें बच्चे की देखभाल

Tgt syllabus

अगर इसके सिलेबस की बात करे तो इसमे जिस subject से apply किया है। उसी से संबंधित प्रश्न पूछे जाते है। इसमे ऑब्जेक्ट टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं। इसमे गलत जवाब देने पर नेगेटिव मार्किंग होती है। टेस्ट पास करने के बाद इंटरव्यू के द्वारा अंतिम चयन होता है। इसके चयन में लिखित परीक्षा और इंटरव्यू दोनों के नंबरों को जोड़कर नौकरी के लिए सेलेक्शन किया जाता है।

Tgt subject

इसके कोई अलग से सब्जेक्ट नहीं होते हैं। जिन विषयों को हम बचपन से पढ़ते हुए ग्रेजुएशन तक आये तक हैं, बस उन्हीं से की जाती है।

हिंदी (Hindi)
अंग्रेजी (English)
गणित (Math)
विज्ञान (Science)
जीव विज्ञान (Biology)
सामाजिक विज्ञान (Social Science)
कला (Drawing)
संस्कृत (Sanskrit)
शारीरिक शिक्षा (Physical Education)
वाणिज्य (Commerce)
कृषि (Agriculture)
संगीत (Music)

टीजीटी के बाद जॉब

ये एक ऐसा प्रश्न है जो कि सभी के दिमाग मे घूमता रहता है। अधिकतर लोग ये ही जानते हैं कि इसे पास करने के बाद teacher बनते हैं, लेकिन ये नहीं जानते कि कौन से टीचर। अब हम आपको समझाते है कि टीजीटी के बाद क्या होता है ?

प्राइमरी टीचर बनने के लिए btc की जाती है। btc करने के बाद आपको प्राइमरी लेवल का tet क्वालीफाई करना होता है। तब जाकर आप 1 से 5वीं तक के सरकारी स्कूलों में teacher बन सकते हैं।

जूनियर टीचर बनने के लिए बी एड किया जाता है। इसके साथ - साथ जूनियर लेवल का tet पास करना पड़ता है। तभी आप 6वीं से 8वीं तक के जूनियर स्कूल में शिक्षक बन सकते हैं।

Read Also :

• जल्दी करोड़पति कैसे बने 

• Agriculture Course में हैं हजारों करियर ऑप्शन   जरूर पढ़ें 

B.ed करने के बाद यदि आप टीजीटी का test qualify करते हैं तो आप हाई स्कूल में 9वीं और 10वीं क्लास के teacher बन सकते है। इसके लिए आपको tet पास करने की जरूरत नहीं है।

यदि आप बी एड के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन कर लेते हैं तो आप pgt के लिए अप्लाई कर सकते हैं। पीजीटी करने के बाद आप इंटर कॉलेज में 11वीं और 12वीं के लेक्चरर बन सकते हो। इसके लिए भी tet अनिवार्य नहीं है।

अब तो आप जान गए होंगे कि tgt क्या होती है। इसे करने के बाद आप कौन सी नौकरी कर सकते हैं। इसका टेस्ट कोई ज्यादा कठिन नहीं होता है। मन से पढ़ाई करके इसे आसानी से क्वालीफाई कर सकते हैं। बस आपकी अपने सब्जेक्ट पर पकड़ अच्छी होनी चाहिए। तभी आप इसमे सफल हो सकते हैं। एक बात और जान लीजिए कि अध्यापकों की सैलरी अलग - अलग होती है। जो जितनी ऊंची क्लास को पढ़ाता है। उसकी सैलरी भी उतनी ही ऊंची होती है। अब आप tgt recuerment निकलने पर apply करिएगा। फिर tgt का टेस्ट पास करके हाई स्कूल में सरकारी टीचर बनिये।

आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी। हमें उम्मीद है कि आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी। यदि करियर से सम्बंधित कोई समस्या या problem हो तो आप हमें comment के द्वारा पूछ सकते हैं। यदि आप हमें करियर से संबंधित कोई जानकारी देना चाहते हैं या कोई गेस्ट पोस्ट भेजना चाहते हैं तो आप हमें  safaladda@gmail. com  पर भेज सकते हैं।

Popular Post :

  News Anchor बनने की पूरी जानकारी हिन्दी में 

  Chemical Engineer कैसे बना जाये

  Civil Engineering में बनाये सुनहरा भविष्य 

  Makeup Artist कैसे बनें

  Books publishing की secret जानकारी

  Exam apps जो दिलाये सरकारी नौकरी में सफलता

  Computer Science में करियर की अपार संभावनाएं      जरूर पढ़ें 

  नौकरी का Test qualify न होने पर क्या करें

  Magician कैसे बने जरूर पढ़ें 
  
  जॉब के लिए Resume कैसे बनाएं

  CTET पास करने की पूरी जानकारी हिंदी में

  Event Managenent में करियर बनाने की जानकारी

Saturday, 2 March 2019

Profitable business कैसे चुनें

दोस्तों आज हम बात करेंगे कि profitable business कैसे चुने ? कोई भी business शुरू करने से पहले हमें ये सबसे पहले सोचना पड़ता है कि हम कौन सा बिजनेस करें जो कि हमारे लिए ज्यादा फायदेमंद रहेगा। आज की इस दुनिया मे हजारों profitable business ideas हैं जिनमें से कोई भी एक चुनकर शिखर तक पहुँचा जा सकता है। लेकिन लोग अपने दिमाग का प्रयोग न करके बिना कुछ सोचे समझे ही व्यापार खोल लेते हैं। जिसका खामियाजा उन्हें कम profit से चुकाना पड़ता है।

Profitable business selection

Profitable business कैसे चुनें

विद्वानों का कहना है कि "कोई भी काम करने से पहले इंसान को विचार करना चाहिए। तभी कोई निर्णय लेना चाहिए।" ये बात तो सभी जानते हैं कि जल्दी का काम शैतान का होता है। फिर भी लोग जल्दबाजी में फैसला ले लेते हैं, कि ये बिजनेस सही है और इसे ही करेंगे। कोई भी business शुरू करने से पहले दूसरों से सलाह - मशवरा जरूर करें, क्योंकि क्या पता कोई अच्छी बात बता दें। जिससे हम उस व्यापार को गहराई से जान जाये और उसमें हम सफल हो जाये।

Best profitable business india

हमारे भारत देश मे मुनाफे वाले बिजनेस बहुत हैं। हमें एक ऐसा business चुनना है जो कि हमारे लिए सहूलियत वाला हो। इसके साथ ही हमारी आमदनी भी ज्यादा हो। इसके लिये हमें एक ऐसा व्यवसाय का चुनाव करना है, जिसके करने के लिये हमारा दिल और दिमाग दोनों तैयार हो। तभी जाकर हम सफलता हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही किसी भी काम मे सफल होने के लिए सबसे पहले एक लक्ष्य निर्धारित करना बहुत ही आवश्यक है। बिना लक्ष्य बनाए कोई भी कार्य सम्भव नही है।

Read Also :

• Childcare app से करें बच्चे की देखभाल

• Books publishing की secret जानकारी

आज के सभी युवा most successfull business के बारे में जानना चाहते हैं। सभी कामयाबी हासिल करना चाहते हैं। इसके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है कड़ी मेहनत। किसी भी कार्य मे कामयाब होने के लिए इंसान को दिन - रात कठोर परिश्रम करना पड़ता है। तब जाकर वह बुलंदियों को छू पाता है। यहां मैं आपको कुछ ऐसे फायदे वाले business के बारे में बता रहा हूँ, जिन्हें कम लागत में शुरू किया जा सकता है और ज्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है।

जूता उत्पादन
जूता ट्रेडिंग
कपड़ा उत्पादन
कपड़ा ट्रेडिंग
मोबाइल रिपेयरिंग
कंप्यूटर रिपेयरिंग
फास्ट फूड
टिफिन सर्विस
लेडीज कॉस्ट्यूम
मेंहदी डिजाइन
लेडीज कपड़े
मेकअप प्रोडक्ट

Profitable business tips in selection

कोई भी व्यापार चुनते समय हमें उससे संबंधित कुछ बातों का हमेशा ध्यान रखना चाहिए। ये बातें हमारे जीवन के लिए बहुत उपयोगी है।

आप जो बिजनेस चुने उसे आप करने में सक्षम हो। जिसे आप दूसरों से करवाने के साथ जरूरत पड़ने पर खुद भी कर सके।

काम ऐसा चुने जिसे करने के लिए आपका दिल, मन और शरीर गवाही दे। तभी आप सक्सेस हो सकते हैं।

कोई भी कारोबार शुरू करने से पहले पूंजी की सही तरह से व्यवस्था जरूर कर लें। तभी आगे कदम बढ़ाए। आप ये न सोचे कि थोड़े पैसों की व्यवस्था अब कर ली और बाकी पैसों की व्यवस्था बाद में कर लूंगा। ऐसा करने से बिजनेस आगे नही बढ़ सकता।

Read Also :

• जल्दी करोड़पति कैसे बने 

• Agriculture Course में हैं हजारों करियर ऑप्शन   जरूर पढ़ें 

कुछ profitable business ऐसे होते है, जिनमे समान दूसरे दिन या जल्दी खराब हो जाता है। ऐसे काम मे समान कितना लाना है और कितना लगाना है। इस बात का विशेष ध्यान रखें।

आप जो भी व्यापार करें, उसके बारे में आपको जानकारी होना आवश्यक है। दूसरो के भरोसे न रहे।

कारोबार ऐसा चुने जो साल के बारह महीनों चलता हो। जिसकी पूरी साल डिमांड हो। ऐसा करने से आमदनी हमेशा होती रहती है।

ऐसा कोई बिजनेस न चुने जो कि सीजन में ही चलता हो। जिसका सीजन टाइम भी कम हो। ऐसे business में नुकसान के चांस ज्यादा रहते हैं। इसमे तभी सफलता पायी जा सकती है जब आपका नेटवर्क बहुत बड़ा हो।

इस पोस्ट के द्वारा अब तो आप सब लोग जान गये होंगे कि profitable business का सिलेक्शन कैसे करना है। सभी लोग मुनाफे वाला बिजनेस करना चाहते है। अब आप भी करिये। ऊपर बताई गई इन ट्रिक्स को अपनाते हुए आप अपने लिए व्यवसाय शुरू कर सकते हैं। आज के दौर में व्यापार करने का तरीका बहुत बदल गया है। इंटरनेट का चलन बढ़ने से सभी कामो में इंटरनेट की उपयोगिता बढ़ती जा रही है। आप भी बदलते हुए जमाने के साथ व्यापार करेंगे तो आपके काम मे तरक्की भी होगी। आप profitable business  पूरे जोश के साथ करिये, आप आसमान की बुलंदियों को छूने में जरूर सफल होंगे।

आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी। हमें उम्मीद है कि आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी। यदि करियर से सम्बंधित कोई समस्या या problem हो तो आप हमें comment के द्वारा पूछ सकते हैं। यदि आप हमें करियर से संबंधित कोई जानकारी देना चाहते हैं या कोई गेस्ट पोस्ट भेजना चाहते हैं तो आप हमें  safaladda@gmail. com  पर भेज सकते हैं।

Popular Post :

  News Anchor बनने की पूरी जानकारी हिन्दी में 

  Chemical Engineer कैसे बना जाये

  Civil Engineering में बनाये सुनहरा भविष्य 

  Makeup Artist कैसे बनें

  Exam apps जो दिलाये सरकारी नौकरी में सफलता

  Computer Science में करियर की अपार संभावनाएं      जरूर पढ़ें 

  नौकरी का Test qualify न होने पर क्या करें

  Magician कैसे बने जरूर पढ़ें 
  
  जॉब के लिए Resume कैसे बनाएं

  Sculpture में करियर की जानकारी हिंदी में 

  CTET पास करने की पूरी जानकारी हिंदी में