Tuesday, 5 September 2017

क्या आप Teacher बनना चाहते हैं

How Can Make
Career In Teacher


Teacher एक ऐसा व्यक्ति जो देश का भविष्य तैयार करता है। Teacher से पढ़कर लोग डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, आईएएस, पीसीएस, वैज्ञानिक, पायलेट, पुलिस, फौजी वगैरह बनते है।
शिक्षक बनकर भी एक अच्छा कैरियर बनाया जा सकता है। आज हम बात करेंगे कि शिक्षक कैसे बना जाये ? शिक्षक बनने के लिए कौन सी पढाई पढ़ी जाये ? शिक्षक बनने के लिए कौन सा कोर्स किया जाये ? शिक्षक बनने का कोर्स कहां से किया जाये ? आपके इन सारे सवालों के जवाब हम इस पोस्ट में देंगे। तो आइये जानने है कि शिक्षक कैसे बने ?

Teacher बनने के लिए कौन सी पढाई पढ़े, ये समझने के लिए पहले हमें शिक्षको को क्लास के अनुसार बाँटना होगा। क्लास में अनुसार हम शिक्षको को पांच भागों में बांटते हैं।
1- क्लास 1 से 5 तक 
2- क्लास 6 से 8 तक
3- क्लास 9 से 10 तक
4- क्लास 11 से 12 तक
5- ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन तक
भारत सरकार शिक्षकों की भर्ती इन्ही क्रम से क्लास के अनुसार करती है। आइये अब जानते हैं कि इनके शिक्षक कैसे बनते है ?

Primary teacher and tgt pgt

1- क्लास 1 से 5 तक के Teacher --
इन टीचर्स को प्राइमरी टीचर कहते है। प्राइमरी टीचर बनने के लिए स्नातक के बाद BTC का कोर्स होता है। पहले ये 12वीं के बाद होती थी, लेकिन अब यूपी में ये स्नातक के बाद होती है। BTC का पूरा नाम basic training certificate है। BTC  2 साल का कोर्स है। BTC करने के बाद CTET या Stet का TET पास करके आप प्राइमरी टीचर बन सकते है।

कुछ राज्यो में प्राइमरी टीचर के लिए JBT की पढाई होती है। JBT का पूरा नाम Junior Basic Training होता है। यह 12वीं के बाद 2 साल का डिप्लोमा है।

नर्सरी के बच्चों को पढ़ाने के लिए NTT कोर्स भी होता है। NTT (Nursery Teacher Training) कोर्स करके केवल नर्सरी क्लास के बच्चों को पढ़ाया जाता है। NTT कोर्स  के लिए 12वीं पास होना जरुरी है। यह कोर्स एक साल का होता है और यह  केवल महिलाओं के लिए है।

2- क्लास 6 से 8 तक के Teacher --
इन टीचर्स को सहायक अध्यापक कहा जाता है। सहायक अध्यापक बनने के लिए ग्रेजुएशन के बाद B.Ed ( Bachelor of Education ) की पढाई की जाती है। B.Ed की पढाई अब 2 साल की होती है जो कुछ साल पहले एक साल की होती थी। B.Ed की डिग्री लेने के बाद CTET या Stet का TET पास करना होता है। इसके बाद सहायक शिक्षको की वेकैंसी निकलने पर apply करके सहायक अध्यापक बन सकते हैं।

3- क्लास 9 से 10 तक के Teacher --
इन टीचर्स को प्रशिक्षित शिक्षक कहते हैं। क्लास 9 व 10 यानी हाईस्कूल के स्टूडेंट को पढ़ाने के लिए B.Ed करने के बाद एक TGT का टेस्ट पास करना होता है। TGT यानी Trend Graduate Teacher. यह टेस्ट graduate और B.Ed के सब्जेक्ट के अनुसार अलग-अलग subject का होता है। सरकार समय-समय पर TGT की वेकैंसी निकलती है।

• Job Search करने के लिए बेस्ट साइट्स 

4- क्लास 11 से 12 तक के Teacher --
इन टीचर्स को लेक्चरर या प्रवक्ता कहते है। ये 11वीं और 12वीं इंटरमीडिएट के छात्रों को पढ़ाते हैं। प्रवक्ता बनने के लिए क्वालिफिकेशन B.Ed डिग्री के साथ मास्टर डिग्री एमए, एमएससी, एम कॉम होना जरुरी है। इतनी योग्यता होने के बाद सरकार इन डिग्री धारकों से PGT (Post Graduate Teacher) का टेस्ट पास करवाती है।तब जाकर ये लोग लेक्चरर (प्रवक्ता) बनते है।

5- ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन तक के Teacher --
ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन के टीचर्स को प्रोफेसर कहते है। प्रोफेसर बनने के लिए Ph.D की डिग्री अनिवार्य होती है। इन टीचर्स को NET का टेस्ट पास करना होता है। इसके बाद ये प्रोफेसर बनते है।

तो ये थी दोस्तों Teacher बनने की अलग-अलग योग्यताएं। अब आपको जैसा भी टीचर बनना हो, उसी के अनुसार पढाई करो और Teacher बनकर अपना कैरियर संवारो। शिक्षा के क्षेत्र में आप एक सुनहरा भविष्य व शानदार कैरियर बना सकते हैं।

 आप को ये पोस्ट कैसी लगी आप मुझे जरूर बताये।

  Read Also :

  Aeronautical Engineering में करियर कैसे बनाये 

2 comments:

  1. Nice And Very useful info,
    This article important and really good the for me is.Keep it up and thanks to the writer.Amazing write-up,Great article. Thanks!
    used to really good
    your info is quite helpful to forever.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you brother. aapko aage bhi aise hi unique post padhne ko milegi.

      Delete