Monday, 21 August 2017

Job Search करने के लिए बेस्ट साइट्स

Job Search
Karne Ke Liye
Best Sites


आज हर इंसान को नौकरी की तलाश है। आज इंटरनेट पर कई job search की साइट्स मौजूद है। फिर चाहे वह सरकारी नौकरी हो या प्राइवेट नौकरी। नौकरी, काम-धंधे के बगैर इंसान का जीवन सम्भव नहीं है। आइये आज हम आपको बताते है कुछ ऐसी job search की साइट्स के बारे में जो आपको नौकरी search करने में मदद करेंगी। आपको इन साइट्स पर अपना प्रोफाइल बनाना होता है। इसमें अपना बायोडाटा यानी रेज्यूमे अपलोड करना होता है। यहाँ आपको नाम, मोबाइल नं., ईमेल आईडी सहित कुछ जानकारियां देनी होती हैं। इसके बाद आप इन साइट्स पर job search कर सकते है। आप इन साइट्स पर किसी भी क्षेत्र में job search कर सकते है।
Job search की साइट्स पर नौकरी खोजना बहुत ही आसान होता है। इन websites पर नौकरी के अलावा education सम्बंधित जानकारी भी होती है जो कि नौकरी के exam या test वगैरह को पास करने में मदद करती है। सरकारी नौकरी चाहने वालो के लिए तो नौकरी के Writing Test के नए व पुराने solved paper पड़े होते है। ये solved paper नौकरी के टेस्ट पास करने में पूरी मदद करते है।
नौकरी चाहे प्राइवेट हो या सरकारी दोनों नौकरी का अपना-अपना अलग महत्त्व है। सरकारी नौकरी में भी बहुत पैसा है और प्राइवेट नौकरी से भी बहुत पैसा कमाया जा सकता है। इन साइट्स पर आप सरकारी और प्राइवेट दोनों job search कर सकते है। पहले इंसान नौकरी के लिए दर-दर भटकता था लेकिन आज इंटरनेट के माध्यम से एक क्लिक करके घर बैठें नौकरी खोज लेता है। आइये जानते है ऐसी ही कुछ नौकरी सर्च की साइट्स के  बारे में।

Job search sites

Job Search करने के 

लिए बेस्ट साइट्स 


1- naukri.com
ऊपर दी गयी job search की साइट्स पर क्लिक करके आप अपने लिए अपनी पसंद की जॉब ढूंढ सकते है। नौकरी पाने के लिए आपको इन साइट्स पर समय- समय पर अपडेट होना पड़ेगा। साइट्स पर अपडेट होकर आप जल्द ही अपने मन मुताबिक नौकरी पा सकते है। इंटरनेट के माध्यम से नौकरी पाने का क्रेज़ बढ़ता ही जा रहा है। आज सभी लोग इंटरनेट पर इन साइट्स का प्रयोग करके जॉब सर्च करते है। यदि आप बेरोजगार हैं तो नौकरी सर्च की साइट्स के जरिये आप भी अपने लिए जॉब सर्च कर सकते हैं।
अपने विचार जरूर शेयर करे और आप भी मुझे बताये की आप कौन की ऑनलाइन जॉब साइट्स use करते हैं 

Thursday, 10 August 2017

Aeronautical Engineering में करियर कैसे बनाये

 How Can Make Career In
Aeronautical Engineering


एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग ( Aeronautical Engineering) एक ऐसा क्षेत्र जिसके बारे में लोगों को अधिक
जानकारी न होने के कारण आप इस क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकते हैं। आइए, आपको बताते हैं Aeronautical Engineering क्या है? इसमें कैसे कैरियर बनाया जाए? 

Aeronautical Engineering क्षेत्र को काफी चुनौतीपूर्ण माना जाता है। इस क्षेत्र में  कैरियर की काफी संभावनाएं हैं। Aeronautical Engineering में एयरोनॉटिक्स और स्पेस साइंस दोनों को पढ़ाया जाता है। एयरोनॉटिकल इंजीनियर की एविएशन इंडस्ट्री के तकनीकी विभाग में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। एयरोनॉटिकल इंजीनियर डिजाइन डेवलपमेंट, रखरखाव व मरम्मत के साथ साथ इसके संस्थानों में शिक्षण कार्य भी संपन्न करते हैं। 

इसके अलावा एयरोनॉटिकल इंजीनियर इलेक्ट्रिकल व इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की देखभाल व रखरखाव, सिविल एविएशन में यात्री विमान के यंत्रों, विमान संबंधी रेडियो, विमान के उड़ान से पहले विमान की जांच, हवाई यात्रा में कोयले की रिफिलिंग तथा डेवलपमेंट जैसे कार्य किए जाते हैं। इस क्षेत्र में आपको एविएशन के अलावा अंतरिक्ष तथा रक्षा से संबंधित नई टेक्नोलॉजी का ज्ञान भी प्राप्त होता है।

Aeronautical engineering job

Aeronautical Engineering के लिए योग्यता --

12वीं कक्षा में गणित और फिजिक्स के साथ अच्छी मेरिट में पास होना अनिवार्य है। एयरोनॉटिकल इंजीनियर बनने के लिए आपके पास Aeronautical Engineering में बीई तथा बीटेक की ग्रेजुएशन डिग्री या कम से कम एयरोनाटिक्स में 3 वर्षीय डिप्लोमा होना आवश्यक है।

इसे भी पढ़ें : 

• देवरहा बाबा का जीवन परिचय 

वेतन --
यहां सरकारी क्षेत्र में आरंभिक वेतन 25 से 35 हजार रुपए मासिक होता है। जबकि निजी क्षेत्र में 50000 से डेढ़ लाख रुपए तक मासिक वेतन दिया जाता है।

इंडिया के बेस्ट Aeronautical Engineering संस्थान --

1- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मुंबई (IIT Mumbai)
2- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर (IIT Kanpur)
3- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर (IIT Kharagpur)
4- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, चेन्नई (IIT Chainai)
5- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एयरोनॉटिकल साइंस, नई दिल्ली
6- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ Aeronautical Engineering, देहरादून 
7- इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ एयरोनॉटिक्स, पटना 
8- इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस, बंगलुरु 
9- बंगाल इंजीनियरिंग एंड साइंस यूनिवर्सिटी 
10- मणिपाल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कर्नाटक
11- अमृता इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, तमिलनाडु 
12- पी. ई. सी. यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी 
13- वी. जे. कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग 
14- एकेडमी ऑफ एरोस्पेस एंड एविएशन, इंदौर 
15- पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज, चंडीगढ़

Aeronautical Engineering में कैरियर बनाकर आप अपने भविष्य को अच्छी तरह से संवार सकते है। इसमें कैरियर बनाने की सरकारी और प्राइवेट दोनों संभावनाएं हैं। एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में कैरियर बनाकर आप जीवन में अपार बुलंदियों को छू सकते है। मैं उम्मीद करता हूँ की आपको ये पोस्ट जरूर अपना कैरियर बनाने मे हेल्प करेगी | आपको ये पोस्ट कैसी लगी मुझे जरूर बताये |

Sunday, 6 August 2017

देवरहा बाबा का जीवन परिचय

देवरहा बाबा -- एक चमत्कारिक शक्ति


इस दुनिया में बाबा तो बहुत है। लाखों बाबाओं में से एक है देवरहा बाबा। देवरहा बाबा चमत्कारी शक्तियों के भंडार थे। देवरहा बाबा ने जिस स्थान पर निवास किया, उस स्थान को आज देवरिया नाम से जाना जाता है। आइए, जानते हैं देवरहा बाबा के जीवन व शक्तियों के बारे में।




Devraha baba vrindavan


देवरहा बाबा का जन्म --


देवरहा बाबा का जन्म कब हुआ, कहां हुआ यह किसी को सही तरीके से ज्ञात नहीं है। कुछ लोगों का मानना है की देवरहा बाबा 250 साल तक जीवित रहे और कुछ लोगों का मानना है की देवरहा बाबा 900 साल तक जीवित रहे। यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं है की वह कितने साल तक जीवित रहे।

देवरहा बाबा का जन्म स्थान --


देवरहा बाबा का जन्म स्थान तो किसी को मालूम नहीं है। बस इतना ही मालूम है कि देवरहा बाबा हिमालय पर्वत पर निवास करते थे। हिमालय पर्वत के बाद देवरहा बाबा जहां रहते थे उस जगह को आज देवरिया नाम से जाना जाता है।

देवरहा बाबा के चमत्कार --


देवरहा बाबा के चमत्कार तो बहुत है। मगर हम कुछ चमत्कारों के बारे में बता रहे हैं। बाबा हमेशा एक मचान पर बैठते थे। वही से लोगों को पैर से आशीर्वाद देते थे। बाबा के पास एक टोकरी हमेशा रखी रहती थी। टोकरी में से बाबा सबको प्रसाद देते थे। यह टोकरी कभी भी खाली नहीं होती थी, चाहे कितने भी लोग आ जाएं। बाबा टोकरी में हाथ डालते और सबको कुछ न कुछ प्रसाद देते थे। टोकरी का खाली न होना यह भी बाबा का चमत्कार था।

देवरहा बाबा के दर्शन --


बाबा के दर्शन हेतु प्रतिदिन हजारों लोग आते थे। देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मंत्री, राजनेता, अधिकारी, साधु-संत और गांव के किसान भी बाबा के दर्शन को आते थे। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पं. मोतीलाल नेहरू, चक्रवर्ती राजगोपालाचारी, पं. मदन मोहन मालवीय, पं. जवाहर लाल नेहरू, सुभाष चंद्र बॉस और नेपाल के राजा बाबा के दर्शनको भारत आये और उनसे प्रेरणा ली। राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. जाकिर हुसैन बाबा के अनन्य भक्त थे। इंग्लैंड के राजा जार्ज पंचम उनके दर्शन के लिए भारत आए। प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, विश्वनाथ प्रताप सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी, लाल बहादुर शास्त्री, चौधरी चरण सिंह, गुलजारीलाल नंदा, डॉ. शंकर दयाल शर्मा आदि नेतागण बाबा के दर्शन को आते थे।

देवरहा बाबा की महासमाधि --


देवरहा बाबा का योगिनी एकादशी के दिन वृंदावन में यमुना नदी के किनारे 19 जून, 1990 को 10:00 बजकर 28 - 32 मिनट के बीच ब्रह्मरंध्र फट गया और श्री महाराजजी के मस्तक से एक ज्योति निकलकर महाज्योति में विलीन हो गई। मंच के नीचे खड़े साधुओ ने उसी समय देखा कि बाबा की खोपड़ी के अंदर 1 मिनट तक प्रकाश रहा और अग्नि की लपट की तरह अपने आप समाप्त हो गया। इसके बाद दूसरे दिन बाबा के शरीर को जलसमाधि दे दी गई। जल समाधि के तुरंत बाद बाबा का शरीर पानी में गायब हो गया। इसके बाद लोगों में बाबा के प्रति आस्था और पक्की हो गई।

देवरहा बाबा के चमत्कार तो सभी लोग जानते हैं। बाबा के भक्त भारत में ही नहीं विदेशों में भी रहते है। बाबा के भक्त मन की शांति के लिए विदेश से वृन्दावन आश्रम आते हैं। लोगों का ऐसा विश्वास है कि बाबा आज भी अपने भक्तों के साथ हैं और देवरहा बाबा आज भी अपने भक्तों की मदद करते हैं।