Wednesday, 7 August 2019

रक्षाबंधन मनाने का सही तरीका क्या है

दोस्तो रक्षाबंधन नजदीक आ गया है। हिन्दू धर्म के सभी लोग इसे अच्छी तरह से मनाते हैं। आज सभी लोग जानते हैं कि ये राखी का त्यौहार भाई - बहन के प्यार के लिए मशहूर है। रक्षाबंधन मनाते तो सभी हैं, लेकिन इसका जो महत्व है उसे नही मानते है। ऐसा कोई काम क्यों करें ? जिसे हम पूरी श्रद्धा और लगन से न कर सके। ऐसी क्या वजह है कि हम बस दिखावटी काम करते हैं। आइये इसे समझने की कोशिश करते हैं।

Rakshabandhan tyohar

रक्षाबंधन मनाने का तरीका क्या है

हम सब देख रहे हैं कि हमारे देश मे लड़कियों के साथ बहुत गलत काम हो रहे है। उनके साथ जबरदस्ती करके उनका जीवन बेकार कर दिया जाता है। लड़कियों का अपने मतलब के लिए उपयोग किया जाता है। कुछ चुनिंदा लोग ऐसा क्यों करते हैं ? क्या वो ये नही जानते कि हर लड़की किसी न किसी की बहन होती है। दूसरे की बहन क्या हमारी बहन नही होती। वैसे हम सभी कहते है कि हम सब भारत के रहने वाले आपस मे भाई - भाई है। फिर कुछ नासमझ लोग ये गलत काम क्यों कर बैठते है ? ऐसे इंसानों को ये गलती करने से रोकना होगा। अगर नहीं माने तो उन्हें सबक सिखाना होगा।

Read Also :

• Sukanya samriddhi yojana की ये बातें जरूर जाने 

• Best University of Sydney MBA for Indian in hindi 

रक्षाबंधन का महत्व

आइये अब हम आपको इसका महत्व बताते हैं। आपको पता है कि इसको क्यों मनाया जाता है ? अगर नही मालूम तो आज जान लीजिए। इस त्यौहार को इसलिए मनाया जाता जिससे हम अपनी व दूसरों की बहन की रक्षा कर सकें। पराई लड़की पराई औरत हम सबके लिए बहन समान होती है। जब वो मुसीबत में हो तो उनकी रक्षा करना हमारा अधिकार है। हमें केवल अपने लिए ही नही जीना है। हमारे जीवन का मकसद तो तब पूरा होगा जब हम दूसरो की मदद करेंगे। जब ये हमारा शरीर दूसरो के काम आएगा। एक दूसरे को मारकर तो जानवर जीते हैं। लेकिन हम तो इंसान है। हमारे माता - पिता ने हमे ये सोच कर पैदा नहीं किया कि हम सिर्फ अपने लिए जियो। कभी दूसरो की मदद मत करो। बल्कि ये सोच कर पैदा किया है। हमें दूसरो की मदद करनी है, दूसरो के काम आना। अगर हम ऐसा करते है तो रक्षाबंधन मनाने का फायदा है। अन्यथा इसे मनाना बेकार है।

रक्षाबंधन कब है

आपको भी मालूम तो होगा कि ये त्यौहार कब है। अगर नही मालूम तो जान लीजिए कि इस बार ये 15 अगस्त 2019 गुरुवार को पड़ रहा है। ये एक संयोग है कि इस दिन स्वतंत्रता दिवस भी है। इस दिन ये दोनों पर्व बड़े हर्षोल्लास के साथ पूरे भारतवर्ष मनाये जाएंगे।

राखी का मुहूर्त

रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधकर उसकी लंबी उम्र की कामना करती है। इसे बांधने का भी एक शुभ मुहूर्त होता है। इसके अनुसार ये काम किया जाएगा तो यह पूर्ण रूप से फलदायक साबित होता है। तो जानते हैं कि इसका सही समय क्या है। 2019 में राखी बांधने का शुभ मुहूर्त सुबह 5 बजकर 49 मिनट से शाम 6 बजकर 1 मिनट तक रहेगा। इस समय में राखी बांधना ठीक रहेगा। इसके अति शुभ मुहूर्त की बात की जाए तो ये सुबह 6 बजे से 7.30 बजे तक तथा सुबह 10.30 बजे से लेकर दोपहर 3 बजे तक रहेगा। इस दौरान ये पर्व खुशहाली के साथ मनाया जा सकता है।

Read Also :

• Bsc Biology के बाद क्या करें

• जल्दी करोड़पति कैसे बने 

दोस्तो त्यौहार सिर्फ एक दिन के नही होते। इनका महत्व पूरी साल के लिए होता है। इनका फर्ज पूरी साल अदा किया जाता है। इस पर्व  पर बहनों को खुश रखने का वादा किया जाता है। बहन चाहे अपनी हो या दूसरो की, हमे उसकी रक्षा करनी चाहिए। हमारा भारत देश एकता व भाईचारे के लिए प्रसिद्ध है। इसकी प्रसिद्धि को हमेशा ऐसे ही बनी रहे। इसमे हमें सहयोग होगा। रक्षाबंधन का त्यौहार प्रेम और खुशियों से भरा है। इसे मिलजुल कर सही तरीके से मनाये। इसी के साथ इस साल रक्षाबंधन पर एक प्रण ले कि हम सभी बहनों की रक्षा करेंगे। तभी इसे मनाने का मकसद पूरा होगा।

हमारी ये पोस्ट कैसी लगी। हमें उम्मीद है कि आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आयी होगी। यदि करियर से सम्बंधित कोई समस्या या problem हो तो आप हमें comment के द्वारा पूछ सकते हैं। यदि आप हमें करियर से संबंधित कोई जानकारी देना चाहते हैं या कोई गेस्ट पोस्ट भेजना चाहते हैं तो आप हमें  safaladda@gmail. com  पर भेज सकते हैं।

Popular Post :

  Plumbing Courses से लाखों कमाये 

  Language Courses in Delhi University information in hindi 


  Mobile Medical Unit क्या है पढ़िए और जानिए 

  सफल Busuness man बनने के लिए क्या करे 

  Home Science से जॉब कैसे पाये

  Motorcycle Accident Lawyer कैसे बने

  Makeup Artist कैसे बनें

  Agriculture Course में हैं हजारों करियर ऑप्शन   जरूर पढ़ें 

  News Anchor बनने की पूरी जानकारी हिन्दी में 

  Chemical Engineer कैसे बना जाये

  Civil Engineering में बनाये सुनहरा भविष्य 


No comments:

Post a Comment